हिंदी योगी

how to become govt school teacher

सरकारी टीचर कैसे बने?How To Become A Govt. School Teacher In India.

शिक्षक बनने के लिए यकीनन बहुत मेहनत करनी पड़ती है। पर बात जब सरकारी शिक्षक की हो तो लोग ये मेहनत भी खुशी खुशी कर लेते हैं।क्योंकि सब जानते हैं एक प्राइवेट स्कूल शिक्षक से ज्यादा पूछ एक सरकारी स्कूल टीचर की होती है। 

 

इसके अलावा इन्हें बहुत ज़्यादा तनख्वाह, स्वतंत्रता, और  सुविधाएं भी मिलती हैं जो एक निजी स्कूल शिक्षक

Advertisement
(Private School Teacher) की तुलना मे बहुत अधिक होती है। 

 

तो कई लोग शिक्षक इसलिए भी बनना चाहते हैं ताकि वह अपना ज्ञान दूसरो को दे सकें। कहा जाता है कि बच्चे समाज का भविष्य होते हैं , कुछ लोग इन्ही बच्चों को ज्ञान का पाठ पढ़ा कर समाज को एक बेहतर भविष्य देना चाहते हैं। समाज के लिए कुछ करना चाहते हैं। 

 

बहुत से लोग शिक्षक इसलिए भी बनते हैं क्योंकि उन्हें पढ़ने और पढ़ाने दोनो मे ही मजा आता है। 

 

पर सवाल यह आता है कि  एक सरकारी शिक्षक बने कैसे (How to become a govt teacher in Hindi) शिक्षक बनने के लिए आपको कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है? क्या क्या क्वालिफिकेशन चाहिए होती है? आदि। 

 

तो आपको इस आर्टिकल मे ये सारी जानकारी मिल जायेगी। तो आइये बिना देरी किये जानते है  How to become a govt school teacher?:

 

 

सरकारी टीचर को 3 भागो में बाँट दिया गया है.

 

PRT (Primary Teacher)

TGT (Trained Graduate Teacher)

PGT (Post Graduate Teacher

(PRT) के अंदर में आप प्राइमरी स्कूल के बच्चो को पढ़ा सकते है यानी की 1 से 5 वीं कक्षा तक के बच्चों को पढ़ा सकते है। 

 

प्राइमरी स्कूल का टीचर बनने के लिए आपको 12 वीं मे 50% मार्क्स लाने जरूरी हैं। इसके बाद आपको ग्रेजुएशन की पढाई कम्पलीट करनी होगी या फिर आपके पास नर्सरी टीचर ट्रेनिंग (Nursery Teacher Training) कोर्स की डिग्री होनी चाहिए.1

 

अगर आपने नर्सरी ट्रेनिंग कोर्स पूरा कर लिया है तो आप छोटे छोटे बच्चो को पढ़ा सकते है जिसे ( Pre – Primary Teacher) कहा जाता है।

 

लेकिन ये जितना आसान लगता है उतना आसान है नही। छोटे बच्चों को पढ़ाना बड़े बच्चों से ज्यादा मुश्किल काम है। उन्हें संभालना, उनकी बातों को समझना, उनके समझने का स्तर समझना यह सब भी इस कोर्स मे जरूरी होता है। 

 

लेकिन कहते है न कि नामुमकिन कुछ भी नहीं होता।  तो यदि आप भी एक सरकारी स्कूल टीचर बनना चाहते है और आपको छोटे बच्चो को पढ़ना अच्छा लगता है तो आप Primary Teacher बन सकते हो और अपना सपना साकार कर सकते हो।

TGT (Trained Graduate Teacher):-

इसमें आप  स्टैंडर्ड क्लास के स्टूडेंट यानि कक्षा 6 से 10 तक के बच्चो को पढ़ा सकते हैं। इसके लिए आपके पास तो ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए साथ ही B.ED (Bachelor Of Education) की डिग्री होनी चाहिए। 

 

जिसके बाद आप CTET (Central Teacher Eligibility Test) अथवा TET (Teacher Eligibility Test) की परीक्षाओं मे बैठ सकते हैं। और इस परीक्षा मे यदि आप सफल हुए तब आप किसी भी स्कूल मे शिक्षक के पद के लिए आवेदन दे सकते हैं।

Post graduation teacher (PGT) :-

जैसा की नाम से ही पता चलता है की यह पद केवल उन लोगो के लिए है जिन्होंने PG यानी पोस्ट ग्रेजुएशन की हो। 

 

इसके अन्तर्गत आने वाले शिक्षक ग्यारहवीं और बारहवीं तक के बच्चों को पढ़ाते हैं। इसके लिए भी आपको वही सब करना है जो TGT के लिए करना होता है बस एक छोटे से बदलाव के साथ। आपको ग्रेजुेएशन के बाद पोस्ट ग्रेजुेएशन भी करनी होगी। उसके बाद B.ED और उसके बाद TET और CTET।

एक सरकारी शिक्षक की सैलरी:-

अगर बात करे एक सरकारी शिक्षक के सैलरी के बारे में तो एक बात ध्यान मे रखनी चाहिए, सरकारी शिक्षक की सैलरी यदि बहुत अधिक नही भी होगी तो बहुत कम भी नही होगी।

 

आपको बस एक बार यह जॉब मिलनी चाहिए इसके बाद आपको कोई भी चिंता करने की ज़रूरत नही है। सरकारी शिक्षक की सैलरी उसके पद के अनुसार मिलती है। 

 

यह औसतन 9000 से 40,000 तक रहती है। जैसे जैसे आपका अनुभव और पद बढ़ेगा सैलरी भी बढ़ती जायेगी।

योग्यता:-

सरकारी शिक्षक बनने के लिए आपको उसके योग्य होना बहुत जरूरी है। चाहे वह दिमाग से हो या फिर डिग्री से। तो सबसे पहले बात करते हैं डिग्री की। 

 

सरकारी शिक्षक बनने के लिए आपके पास ग्रेजुएशन मे अच्छे मार्क्स यानी लगभग 50 % मार्क्स होने चाहिए तभी आप किसी अच्छे कॉलेज ने B.ED कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं। 

 

साथ ही B.ED कोर्स मे एप्लिकेशन फॉर्म भरते वक़्त आपको किसी एक खास सब्जेक्ट का चुनाव करना होता है। जिस सब्जेक्ट के शिक्षक आप बनते हैं। तो यह भी ज़रूरी है की आपके ग्रेजुएशन मे उस सब्जेक्ट मे 50% मार्क्स हों। 

अब आप किसी अच्छे से कॉलेज से B.ED कोर्स करते हैं। उसमे भी आपको काफी मेहनत और अच्छे मार्क्स से पास होना होता है। 

 

और जब आप B.ED की डिग्री पा लेते हैं तो सफर खतम नही होता बल्कि उसके बाद भी आपको कई परीक्षाओं से गुजरना होता है। 

 

B.ED डिग्री के बल पर आप TET या CTET की परीक्षाओं मे बैठते हैं। जो की राज्य और केंद्र द्वारा आपकी शिक्षक बनने की क्षमता को मापने का पैमाना होती है इस परीक्षा को पास करने पर मान लिया जाता है की आप एक शिक्षक बनने के योग्य हैं। यह भी आपको एक डिग्री के रूप मे मिलती है। 

 

इस डिग्री को पाने के पश्चात आप किसी भी केंद्र या राज्य विद्यालय मे एक शिक्षक का पद प्राप्त करने के लिए आवेदन दे सकते हैं। 

 

उस आवेदन जी अनुसार यदि आप पद के योग्य हुए तो आपको एक सरकारी शिक्षक का पद दे दिया जायेगा। 

तो इस तरह से आप एक सरकारी शिक्षक बन सकते हैं।

अब कुछ जरूरी जानने योग्य बाते:

1.TET (Teacher Eligibility Test) राज्य सरकार द्वारा आयोजित की जाती है जबकि CTET (central teacher eligibility test) केंद्र द्वारा। 

 

यदि आप TET की डिग्री पाते हैं तो आप केवल उसी राज्य मे आवेदन कर सकते हैं जंहा पर आपने TET की डिग्री ली है। जबकि CTET की डिग्री पाने पर आप भारत के किसी भी स्कूल मे चाहे वह केंद्रीय स्कूल हो या समान्य आप निश्चिंत हो कर आवेदन दे सकते हैं। 

 

2 .CTET एग्जाम को 2 भागो में रखा गया है पेपर 1 और पेपर 2। यदि आप कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को पढ़ाना चाहते है तो पेपर 1 का तैयारी कीजिये। और यदि आप कक्षा 6 से 10 तक के बच्चों को को पढ़ाना चाहते है तो पेपर 2 का तैयारी कीजिये। 

 

आर यदि आप दोनो ही परीक्षा मे सफल हो जाते हैं तो आपको शिक्षक बनने मे और आसानी हो जायेगी। 

 

2.दूसरी बात आप अपने पसंदीदा सब्जेक्ट पर शुरू से ही पकड़ बना कर रखें क्योंकि आज कल के समय में विधार्थी पढ़ाई मे बहुत तेज होते है ऐसे में शिक्षक को भी तेज होना पड़ता है। 

 

क्योंकि कौनसा स्टूडेंट क्या सवाल पूछ लेगा कोई नही जानता। इसलिए अपने सब्जेक्ट को बहुत मजबूत रखे इसीलिए आप जिस सब्जेक्ट का शिक्षक बनना चाहते है उसी सब्जेक्ट को पसंद करे और बारीकी से उस पर अध्यन कर लें।

आशा करता हूँ इस ब्लॉग पोस्ट में दी गयी जानकारी आपको अवश्य पसंद आई होगी। यदि आपको यह ब्लॉग पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों और अपने रिश्तेदारों में अवश्य शेयर करें, ताकि जिन्हे भी Govt School Teacher बनने को लेकर कोई जानकारी चाहिए तो उन्हें यह basic जानकारी उपलब्ध हो सके। 

 

यदि इस ब्लॉग पोस्ट को लेकर आपके मन में कोई प्रश्न अथवा कोई सुझाव हो तो हमें कमेंट में लिखना ना भूले।  हम आपके प्रश्नो का जवाब जल्द से जल्द देने और आपके सुझाव पर अमल करने का प्रयत्न करेंगे।

Leave a Comment