हिंदी योगी

starlink explained in hindi

Internet की दुनियां में खलबली, एलन मस्क (Elon Musk) की कंपनी Starlink देगी 300 Mbps इंटरनेट स्पीड | अब Jio, Airtel की होगी छुट्टी!

Elon Musk दुनियां में एक वो चेहरा है जिसे unexpected कार्य करने के लिए जाना जाता है।

Advertisement
दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति , टेस्ला और स्पेसएक्स जैसी बड़ी कंपनियों के मालिक एलन मस्क अब भारत में इंटरनेट उपभोक्ताओं को Satellite से Internet देने की शुरुआत करने जा रहे है।  

 

भारत में अब तक हम सभी लोग समुद्र अथवा महासागरों से उत्पान की गयी इंटरनेट का उपयोग करते आ रहे थे जिसे इंटरनेट प्रोवाइडर कंपनियों द्वारा केबल तथा टावर के माध्यम से हम तक पहुंचाया जाता था।

 

वायर द्वारा जो इंटरनेट हम उपभोक्ताओं तक पहुंचाया जाता है उसकी स्पीड किसी किसी जगह पर  बहुत कम होती है  उदाहरण के लिए यदि आप गॉव देहात में चले जाओ तो वहाँ इंटरनेट की स्पीड बहुत कम हो जाती है। जिसकी वजह से इंटरनेट यूजर को बहुत समस्या होती है। 

 

वायर अथवा टॉवर के माध्यम से दी जाने वाली इंटरनेट की सबसे बड़ी खामी यह है कि वह हर जगह उपलब्ध नहीं हो सकता।  आप पहाड़ी इलाके या फिर समुद्र के बीच इंटरनेट एक्सेस करने का प्रयत्न करें तो वहां इंटरनेट काम नहीं करेगा। 

 

लेकिन अब एलन मस्क की कंपनी Starlink Satellite से डायरेक्ट हम तक इंटरनेट पहुंचाएगा जिसके कारण न तो स्लो स्पीड की टेंशन रहेगी और न ही अब यह टेंशन होगी की गॉव देहात या पहाड़ी वाले जगह पर इंटरनेट का उपयोग कैसे करेंगे। 

 

दोस्तों एलन मस्क ने कई ऐसे काम किये है जो इंसान कि सोंच से परे थी।  चाहे बात ड्राइवरलेस इलेक्ट्रिक वाहन के निर्माण की हो या फिर किसी आम इंसान को अंतरिक्ष की यात्रा कराने की हो।  अब उन्होंने बिना किसी बाधा के दुनियां के हर कोने तक हाई स्पीड इंटरनेट पहुंचाने का जिम्मा उठाया है। 

यह भी पढ़े: दुनिया के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति – एलन मस्क बायोग्राफी


आपको बता दें कि सैटेलाइट्स इंटरनेट का उपयोग करने वाला भारत दुनियां में पहला देश नहीं होगा।   पहले से ही अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, UK, चिली, पुर्तगाल समेत 14 देशों में सॅटॅलाइट हाई स्पीड इंटरनेट मिल रहा हैं। यहां तक कि US एयरफोर्स ने स्टारलिंक का इस्तेमाल कर 600 Mbps की स्पीड भी हासिल की है

starlink satellite

स्टारलिंक वायरलेस इंटरनेट उपलब्ध कराने के लिए सैटेलाइट्स के नेटवर्क की मदद लेगा. 

 

आपको याद होगा आज से 10 – 15 साल पहले हमें टेलीविज़न पर किसी भी चैनल को देखने के लिए घरों  के छत पर एंटीना अथवा केबल लगवाना होता था। उसके बाद ही हम टीवी पर किसी चैनल को देख पाते थे। लेकिन अब एंटीना और केबल की जगह सेटेलाइट डिश ने ले ली।  

 

अब किसी भी कंपनी का चैनल देखने के लिए हमें  डिश इनस्टॉल करवाना होता है और सैटेलाइट से डिश के माध्यम से चैनल हमारे घर तक पहुँचता है। 

 

ठीक उसी प्रकार भारत में अब इंटरनेट की भी दुनियां बदलने वाली है।  अब इंटरनेट के लिए भी हमें सैटेलाइट डिश और एक वाई-फाई राउटर इनस्टॉल करवाना होगा। जिसके लिए हमें  स्टारलिंक को कुछ चार्जेज देने होंगे। उसके बाद हम हाई स्पीड इंटरनेट का आनंद भारत के किसी भी कोने से ले सकेंगे।

कब से इंटरनेट सेवाएं शुरू हो रही है ?

हाल फिलहाल में एक ट्विटर हैंडल OnsetDigital (@Tryonset) ने एलन मस्क से पूछा था कि स्टारलिंक सर्विसेस भारत में कब लॉन्च हो रही है ? इस पर मस्क ने जवाब देते हुए कहा था कि भारत में  ‘रेगुलेटर से अप्रूवल की प्रक्रिया पर काम चल रहा है।  जल्द ही भारत में यह सेवाएँ बहाल कर दी जाएगी। 


सोर्सेज कि माने तो starlink  कि सर्विसेज के लिए प्रीबुकिंग शुरू हो चुकी है और इंटरनेट सर्विसेज इस समय बीटा (टेस्टिंग) वर्जन में है। अगले साल तक यानी 2022 तक यह सर्विसेज भारत के सभी लोगो के लिए उपलब्ध हो जाएगी

कितनी इंटरनेट स्पीड रहने वाली है?

अभी स्टारलिंक कि इंटरनेट सर्विसेज बीटा वर्जन में है और इस समय इंटरनेट कि स्पीड 50 Mbps से 150 Mbps कि है। लेकिन सोर्सेज की माने तो जब स्टारलिंक की सेवाएं पूरी तरह से शुरू हो जाएगी तब यह स्पीड 300 Mbps तक अपग्रेड हो सकती है।  

 

अमेरिका की बात करें तो स्टारलिंक इंटरनेट की एवरेज स्पीड 115 एमबीपीएस है।  

 

स्टारलिंक द्वारा प्रोवाइड की जाने वाली सैटेलाइट इंटरनेट की सबसे बड़ी खासियत है कि इसे किसी भी जगह से एक्सेस किया जा सकता है। मौजूदा समय में यदि आप पहाड़ी इलाकों से ताल्लुक रखते है तो अभी आपको इंटरनेट की इतनी अच्छी सुविधा नहीं मिलती होगी। 

 

क्योकिं पहाड़ी इलाकों और देहातों में टेलीकॉम कंपनियों द्वारा हर जगह टॉवर लगाना संभव नहीं हो पाता है। 

 

लेकिन स्टारलिंक द्वारा जो इंटरनेट हमें प्रदान की जाने वाली है वह डायरेक्ट सॅटॅलाइट के माध्यम से हम तक पहुंचेगी। जिससे भारत के किसी भी क्षेत्र में इंटरनेट का उपयोग किया जा सकेगा। 

 

हम सभी जानते है की आज के समय में इंटरनेट कितना महत्वपूर्ण साधन हो चूका है लोगो से जुड़े रहने, ऑफिस, दफ्तरों आदि के काम काज के लिए, यहां तक की कोरोना के बाद स्कूल की क्लासेज भी इंटरनेट के माध्यम से ही हो रही है। 

 

और इसी वजह से भारत के हर क्षेत्र में इंटरनेट की उपलब्धता और इसकी स्पीड बहुत ज्यादा मायने रखती है।

कितना देना होगा चार्ज ?

इंटरनेट की सर्विसेज लेने के लिए प्रीबुकिंग शुरू हो चुकी है। इसे आप स्टारलिंक के ऑफिसियल वेबसाइट https://www.starlink.com/  पर जा कर बुक कर सकते है। कंपनी ने कहा है कि यह सर्विस  ‘First come first served’ यानी ‘पहले आओ पहले पाओ’ के आधार पर दी जाएगी। 

 

एलन मस्क ने ट्विटर के माध्यम से खुलासा किया है कि अभी रेगुलेटर से अप्रूवल की प्रक्रिया जारी है।  पूरा चान्सेस है कि 2022 की शुरुआत से लोगो को इंटरनेट की सर्विसेज मिलना शुरू हो जाए। 


स्टारलिंक के इस सर्विसेज को लेने के लिए आपको 99 डॉलर यानी लगभग 7200 रूपये प्रति माह के दर से अदा करना होगा।

Leave a Comment